Saturday, March 23, 2013

मेरे कुछ शे'र जो मुझे अक्सर याद आते हैं




ख़िरदमंदी मिरी मुझको वफ़ा करने नहीं देती                               
ये पागल दिल कि मुझको बेवफ़ा होने नहीं देता      

मुस्कुराने पर बहुत पाबंदियां तो हैं मगर
यूँ ही थोड़ा मुस्कुराने का इरादा मन में है                                                                                           

ख़ुदा नहीं हूं मगर मैं खुदा से कम भी नहीं
 मैं गिर भी सकता हूं गिर कर संभल भी सकता हूं                                                          

है मुकद्दर में भटकन, भटकते हैं हम                                                                                
होगा तक़दीर में तो ठहर जाएँगे                                                                                

बात कुछ आपकी हो मेरी हो                                                                                                      
और हम क्यूं किसी की बात करें                                                             

अट गई जब ज़मीन महलों से                                                                                           
दाल चावल कहाँ से लाओगे                                                                                                        

ये मेरी सोच का प्यासा परिंदा                                           
 तेरी बारिश की बूंदें पी रहा है 

मैं जो चलता हूं तो चलता हूं तुम्हारी जानिब                                                             
दो क़दम तुम मिरी जानिब कभी आओ तो सही 

 उसे मस्जिद बनानी है इसे मंदिर बनाना है
मुझे बस एक चिंता, कैसे अपना घर चलाना है

हमारा हौसला देखो, न पूछो पैर के छाले
हमारी इब्तिदा क्या देखते हो इंतिहा पूछो

मंज़िल तक पहुँचाना है जो, मेरे घायल कदमों को
कुछ हिम्मत भी दो चलने की, कुछ रस्ता आसान करो
 
हम से ख़ता हुई है कि इंसान हैं हम भी
नाराज़ अपने आप से कब तक रहा करें