Thursday, September 12, 2013

चलो सो जाएं

अब तो गहरा गई है रात चलो सो जाएं
ख़ाब में होगी मुलाकात चलो सो जाएं

रात के साथ चलो ख़ाब-नगर चलते हैं
साथ तारों की है बारात चलो सो जाएं

रात-दिन एक ही होते हैं ज़ुनूं में लेकिन
अब तो ऐसे नहीं हालात चलो सो जाएं

रात की बात कहेगी जो आँख की लाली
फिर से उट्ठेंगे सवालात चलो सो जाएं

नींद भी आज की दुनिया में बड़ी नेमत है
ख़ाब की जब मिले सौगात चलो सो जाएं

फिर से निकलेगी वही बात अपनी बातों में
फिर बहक जांएंगे जज़्बात चलो सो जाएं

--
रवि कांत 'अनमोल'
Site I recommend
http://www.competeindia.org
मेरी रचनाएं
http://aazaadnazm.blogspot.com
कविता कोश पर मेरी रचनाएं
http://www.kavitakosh.org/ravikantanmol

Wednesday, September 11, 2013

ग़ज़ल : हमसे गलती हुई सी लगती है

शाम ढलती हुई सी लगती है
शमअ जलती हुई सी लगती है

रात सपनो की राह पर यारो
अब तो चलती हुई सी लगती है

उनसे तय थी जो मुलाकात अपनी
अब वो टलती हुई सी लगती है

हर तमन्ना न जाने क्यों अब तो
दिल को छलती हुई सी लगती है


हमने दिल खोल कर दिखाया जो
हमसे गलती हुई सी लगती है

जाने क्यों ज़िंदगी हमें अपनी
हाथ मलती हुई सी लगती है

शाम से इक उम्मीद थी दिल में
अब वो फलती हुई सी लगती है

--
रवि कांत 'अनमोल'
Site I recommend
http://www.competeindia.org
मेरी रचनाएं
http://aazaadnazm.blogspot.com
कविता कोश पर मेरी रचनाएं
http://www.kavitakosh.org/ravikantanmol